समर्पित

इन्सानियत की सेवा करने वाले खाकी पहने पुलिस कर्मियों को जिनके साथ कार्य कर मैं इस पुस्तक को लिख पाया और
माँ को, जिन्होंने मुझे जिन्दगी की शुरुआत से ही असहाय लोगों की सहायता करने की सीख दी

शुक्रवार, 18 दिसंबर 2009

इलाहाबाद में तो कमाल हो गया…।

 

सीपी ने इलाहाबाद में मेरी किताब पर चर्चा के लिए जो इन्तजाम किया था उसका प्रभाव अगले दिन की अखबारी रिपोर्टो को देखकर  बखूबी किया जा सकता है। सी.पी. यानि चन्द्र प्रकाश, इलाहाबाद के डी.आई.जी. जो जिले के पुलिस प्रमुख हैं और मेरे मित्र है। हमारा बैच एक ही है। यह एक सुखद संयोग ही है कि एक जमाने में मैं इलाहाबाद में ट्रेनिंग के लिए तैनात था और सी.पी. लखनऊ में थे। तब मैने इन्हें कुम्भमेला घूमने के लिए बुलाया था। आज ये इलाहाबाद के पुलिस कप्तान हैं और मुझे इनके सौजन्य से इस गौरवशाली शहर में अपनी पुस्तक पर परिचर्चा के साहित्यिक कार्यक्रम में शामिल होने का अवसर मिला। श्री विभूति नारायण राय जी उस समय इलाहाबाद के एस.एस.पी. हुआ करते थे। इन्होंने तब मुझे ट्रेनिंग दी थी, और आज एक विश्वविद्यालय के कुलपति और प्रतिष्ठित साहित्यकार के रूप में मेरी पुस्तक पर परिचर्चा के इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि बने।

इस परिचर्चा की खबरें स्थानीय अखबारों ने प्रमुखता से प्रकाशित कीं। प्रस्तुत है इलाहाबाद से प्रकाशित समाचारों का संकलन। समाचारों को अविकल पढ़ने के लिए उन चित्रों पर क्लिक करिए।

दैनिक जागरण, १४.१२.०९दैनिक जागरण 

हिन्दुस्तान, इलाहाबाद १४.१२.०९हिन्दुस्तान

यूनाइटेड भारत, इलाहाबाद १४.१२.०९ यूनाइटेड भारत

डेली न्यूज एक्टीविस्ट १४.१२.०९डेली न्यूज एक्टीविस्ट 

I-Next, इलाहाबाद १४.१२.०९I-Next (आई-नेक्स्ट) 

आशा है आप सबको यह प्रस्तुति पसन्द आएगी।

(अशोक कुमार)

4 टिप्‍पणियां:

  1. अशोक जी,
    यह सही है कि पुलिस में सभी इंसान होते हैं। पुलिस राज्य का औजार है। जैसे जैसे राज्य के स्वरूप में परिवर्तन होता जाएगा पुलिस का स्वरूप भी परिवर्तित होगा। जनतंत्र में पुलिस के मानवीय स्वरूप के विकास की बहुत संभावनाएँ हैं। लेकिन यह इस पर निर्भर करेगा कि राज्य उसे इस के विकास की कितनी छूट देता है।
    इस आयोजन की सूचना विवरण से बहुत प्रसन्नता हुई। आनंद वर्धन शुक्ल के कोटा पदस्थापित रहने के दौरान उन से परिचय का अवसर मिला था। निश्चित रूप से वे पुलिस की वर्दी में इंसान ही नहीं थे। एक सास्कृतिक उन्नयन के आकांक्षी व्यक्ति भी हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बढ़िया मीडिया मैनेजमेंट !

    आपको पुस्तक विमोचन की बधाई !!

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे लिए मार्गदर्शक का कार्य करेंगी। अग्रिम धन्यवाद...।